Setup Sub-Domain in Blogger क्या है Godaddy sub-domian create kare

 Setup Sub-Domain in Blogger, Sub-domain क्या है? और क्या होता है? 

setup sub-domain in Blogger


Define Sub-Domian:- Sub-domain, Main-डोमेन का child होता है, Sub-Domain केवल https और http में होता है, मतलब WWW नही होता है sub-domain के URL  में. आप अपने Main-Domain से बहुत सारे sub-domain Create  कर और बना  सकते हो.

Subdomain भी  एक domain ही होता है. जैसा की इसके नाम से ही clear होता है की ये domain का एक Child  पर होता है. मुख्य रूप से domain name ऐसा होता है,  लेकिन जब इसके sub parts में अपनी main website domain के अन्य versions add करते हैं जैसे की hindi.example.com, en.example.com,  hindime.topbook.com इत्यादि तो ये subdomains कहलाते हैं.

Example:- 

Main Domain:- With www or without www

http://google.com / 

https://google.com/

http://www.google.com/

http://www.google.com/

आप भी sub-domain  create कर सकते हो,  Domain name खरीद लिया है तो,ज्यादा कुछ नहीं करना होता है, बस आपको Domain  के Dashboard or webhosting  के Dashboard में  जा कर , New DNS Add करना होता है,  मै आपको  Godaddy  का example  देकर समझाऊंगा.


किस type  का Sub-Domain बनाये?

आप,आपके Main Domain  से , मिलताजुलता Sub-Domain create कर सकते हो, अगर आपका main Domain Educationसे related है Example:-TopClass.com  , अगर आपको entertainment के Topic पर website बनाना अच्छा लगता है, तो आप बना सकते हो या फिर आपके पास English website और आप हिंदी में Sub-domain create कर सकते हो.

Subdomain की क्या ज़रूरत है?

अब हमने ये तो जान लिया की आखिर sub-domains होते क्या है लेकिन आपको ये सवाल ज़रूर होगा की इसकी क्या ज़रुरत है या फिर इसका क्या फायदा है. मान लीजिये की आप एक बहुत बड़ी website बनाते हैं जिसमे बहुत सारा content अलग-अलग भाषाओँ में उपलब्ध है, तो ऐसे cases  में sub-domains create करना बेहतर रहता है.


उदहारण के लिए मान लीजिये की आपकी एक domain है, example.com. अब आप इसमें केवल English content डालते हो. लेकिन बाद में आपको दूसरी भाषा में भी content अपने domain पर डालना हो. तो ऐसे में आपके readers जोकि अलग-अलग भाषाओँ के हिसाब से है तो आप अलग भाषाओँ वाले लोगों के लिए अलग subdomains पर content डाल सकते है.


क्या sub-domain google AdSense approval मिलता है?

अगर आपका Main Domain  को google AdSense approval, कर दिया है, तो आपको, Sub-Domain के लिए approval  की जरूरत नहीं होती, आप उसमे भी अपना Adsense Ads run  कर डबल earning  कर सकते हो.

My Friends New Blog :- Jarur visit kariye

World's Deepest Pool opened in Dubai - Current Affairs - Topic10points


Godaddy me sub-domian kaise create kare :-


क्या Sub-domian google में रैंक करता है?


जी हाँ रैंक करता है, Sub-Domain google  पर, अगर आपका content अच्छा हो, तो आपको अपने Website  को silo structure में कंटेंट लिखा चाहिए.

Silo Structure क्या है?


Silo Structure means बहुत कम categories बनाना जैसे आप Blog से related 10 post  लिखते हो तो सब मे Same  category रखना चाहिए. जैसे Blog से Related  है तो Blog-सीखो.

सही रास्ता जो interesting बना देगा आपके Blogging  Career  को


1-Blogger में Blog create करे
2- अपने Nich के according Blog  को सजाये
3-Domain name खरीद ले
4-अपने वेबसाइट के लिए Sitemap create  करे
5-अपने वेबसाइट को search-console में add  कर ले
6-Google Analytics में भी Website  को Add करे    (user tracking के लिए )
7-Regular Post  अपलोड करते रहे
8-Post  25-30 होने पर google Adsense पर review से लिए apply करे
9-Social Media Present पर भी रहे
10-consistency बनाये रखे Blogging  में
11-audience Create करे Website  के जरिये
12-Google Adsense  approved होने के बाद , आपको Sub-Domain बनाना होगा और Adsense  से अपना Revenue  बढ़ाना होगा।

SetUp SuDomain in Blogger:-

एक बार sub-domain  Create करने के बाद आपको same process करना होता है blogger  में :-
sitemap create करना, 
website को search console में add करना,
custom ads txt submit करना,
titles  और descriptions लिखना,
Crawlers and indexing setup  करना

Post a Comment

Previous Post Next Post